श्री चण्डिका स्रग्धरा

वाणी श्रीरूपिणी शूलडमरुधरिका: श्वेत पद्मासना या
लक्ष्मी घोराक्षिणी नारदमुनि नम माता हरि प्रेमिका या।
शूलीबुद्धिप्रदा या कमलनयन मोहिन्यकारात्मिका या
कारुण्या भक्तरोगान् मनसिजकलहान् नाशयन्ती रमा सा।१।

वाग्देवीं ब्रह्मपत्नीं सकलविदकलादायकीं शुभ्रिनीं च
श्रीं पद्मां विष्णुपत्नीं वरकमलधरां भाग्यदां मालिनीं च।
क्रूरां तां शम्भुपत्नीं अतुलबलकरीं चण्डमुण्डार्धिनीं च
वन्देहं त्वां वराहीं परमभगवतीं चण्डिकां वोवरेणयं।२।

वीणापाण्या हरिण्या श्रुतिमतिमधुरिण्या सदा रक्षितोहं
शूलिन्या शोभया श्री कमलवरनयन्या सदा रक्षितोहं।
श्री हंसारूढया मोहनकरभुवनेश्या सदा रक्षितोहं
मण्या मात्रा महेश्या परमसुखदयाहं सदा रक्षितोहं।३।

सारस्वत्यै ललित्यै सुरवरविनुतायै वरायै नमस्ते
पुष्पिण्यैस्योमलायै हरिहृदयवसिन्यै रमायै नमस्ते।
काल्यै शूल्यै परायै परमशिवसुपत्न्यै उमायै नमस्ते
चण्ड्यै वाण्यै नमस्ते कमलतनयकन्यै नमस्ते नमस्ते।४।

वाण्यास्तस्यारुमाया: कमलदलसुनेत्र्या: परं किं परं किं
वीणापाण्यास्कलायारसुरमरणकार्या: परं किं परं किं।
क्लेशारिण्या: हरिण्या: परमसुखकरिण्या: परं किं परं किं
सर्वाण्या: श्रीकरिण्या: सकलभुवनराण्या: परं नैव नैव।५।

दासोहं चेतनायारतुलगुणगणायारनाम्न्यारुमाया:
दासोहं कुंकुमायारिहपरसुखदाया: शिवाया: कृपाया:।
दासोहं श्री गदिन्या: करकमलधृताया: कलाकारणाया:
दासोहं बालिकाया: सुनटनरसिकायार्महादेवदेव्या:।६।

भक्तिंकुर्मोर्वयं श्री दशदशदश चत्वारि चत्वारिकायां
भक्तिंकुर्मोर्वयं श्री मरगदमणिभूषावृतायां रमायां।
भक्तिंकुर्मोर्वयं श्री महिषमृगनिघातन्यखिल्यां उमायां
भक्तिंकुर्मोर्वयं श्री सकलभुवन कन्या महारूपिकायां।७।

ब्रह्माणी वैष्णवी श्री त्रिपुरकलहक: शंभु पत्नी शिवे हे
शुभ्राचारी रमे पर्वततनयसुते शंकरी शांभवी हे।
वाराही पाहिमां हे अतिमधुर सुभाषप्रिये शुंभघाते
हे श्री माता कटाक्षं कुरु अति सुलभं चण्डिके स्रग्धरे हे।८।

गुरुपवनपुर प्रथमि विभक्ति नवकं

श्रीकृष्णो गोपिका नाथ गुरुवायुपुरेश्वर:।
सर्वक्लेश हरो ब्रह्म रूपो जयति केशव:॥ … 1

तिष्ठो योगुरुवायोश्च ग्रामे तेजोद्युतिस्सह।
रक्षत्यस्मान् हरिस्सैव सैव सर्वेश्वरस्तथा॥ … 2

यथानो चिन्तयामस्तु गतिमार्गं च नास्ति मे।
तथा यो रक्षतिस्सैव गुरुवायुपुरेश्वर:॥ … 3

ज्ञानिभ्यो ज्ञान कारिण्यो भूत्वापि मृदुलं सह।
विनागर्व शिशुस्तिष्ठर्गुरुवायुपुरेश्वर:॥ … 4

आचार्य पवन ग्राम देवेशोदीनसादक:।
दु:खानां नाशयित्वातु क्रीडति कृष्ण सो शिशु:॥ … 5

ग्रामं वायुगुरोर्देवो मत्स्य कूर्म वराहका:।
सिंह वामन रामत्र्या: कृष्ण: कल्कि स्वरूपक:॥ … 6

गुरुवायुपुरादीशो केशवो गजरक्षक:।
पूंतानश्च कुरूरम्म भट्टद्री भक्त रक्षक:॥ … 7

बृहस्पतिश्चवायुश्च ग्रामदेवो कृपानिधि:।
रक्षति दयया सैव अस्मान् इमान् नराधमान्॥ … 8

गुरुवायुपुरेश: श्री माधवो शक्ति सोदर:।
विना तस्य दया कश्चित् पृथिव्यां न भविष्यति॥ … 9

உவமை வெண்பா

உறுமய னீட்கருங் காட்டிடை யாடி
யுறுமயி லேறும் முருக – மறுமையி
லிம்மையில் யான்மற வேனடி வாழ்கவே
எம்மையில் சேர்த்தருள் வாய்

வேட்டுவ டன்னை நெடுங்கொடுங் காட்டிருந்து
வீட்டிய வன்வேல் முருகனே – பாட்டியற்
றேட்டரைப் போலிலா தன்பிலா திங்குநெடு
நாட்டிக ழெற்கு மருள்

நஞ்சினை ஈவனையுங் கொண்டாஅன் நன்மைந்த
வஞ்சமே கொள்ளுளம் வைத்தவன்யான் – நெஞ்சிடங்
கெஞ்சினே னெண்ணிலன் கந்தனை நல்லருட்
கொஞ்சினான் வேல னெனக்கு

நீணெடுகொல் வளர்ச்சி  கரிபிடிக்க வஞ்சியே
சூணெடுவன் கானிடை ஓடியவள் – பேணெடுத்தா
யஞ்சலென்றாய் இன்புண்ண நோவுற்றேன்
றஞ்சமென்றேன் செய்வா யருள்

வனமுறை வேங்கைக்க்கன் றன்னையின் னீங்கும்
மனமுறை செய்திடலாற் றாயோ – இனமிறைவ
வென்றெடுத் தார்க்கு மதுபோல்யான் னன்னடத்தை
கொன்றெடுத் தாலு மருள்

புலிகாண சின்மான் பெருங்கரி யெல்லாம்
பலிகாணு வோமென வோடுங் – கலிகாணக்
கொள்ளாது தீதோட்டு முன்னடியை யோர்நொடியு
முள்ளாது நொந்தே னடா

सः एव भगवन्तः

करोति धर्म कार्याणि सर्व संभव तत्परे |

तं वदति दैवेति सन्न मानुष मे सुतः ||
 
दीर्घ धर्मस्य ज्ञानेन नायरो बैदूर्य ताः|
सर्वाः देवाः का भ्रान्ति कापि नैवेव मे सुतः||
 
परोप करणं बुद्धिं सर्वेः सुखे सुसूखितं |
इदं सर्वं भवेत् नारः दैवो नचेति कोपि न||
 
यस्य भुजानि चत्वारि यस्य मुखं गजस्य च |
स नोभगव भूलोके धर्म नारैव देवताः ||
 
धर्मं स्थापत्य सर्वेषां मनुष्यार्थं सुखं मने |
सभूपति महाण्डस्य मने गुणे च वाचसे ||

सा विद्या या विमुक्तये (2)

न वदामीत्यहं वत्स सर्वं आत्मेन सिद्ध्यति |
यानि सिद्ध्यन्ति आत्मेन तैर्महत्वं  प्रमुञ्जति || (2-1)
किञ्चित् नराः तथा सन्ति यस्याङ्गुल्यां महोदधि |
तथापि सन्ति येनात्र शक्यं कर्मं तु नास्ति भोः || (2-2)
सामर्थ्येदं प्रयत्नेन नागच्छति कदापि भोः |
अनिषेधीय कार्येण भवन्ति सद्गुणाश्च भोः || (2-3)
ततो संमति कस्यार्थं अनादारं च कस्य भोः |
सर्वान ब्रह्म स्वरूपे नो दर्शनं परमं शुभं || (2-4)
वल्लुवस्य महावाक्यं महा देवेन चापि यं |
न शक्यं तं प्रयत्नेन भविष्यतीति निश्चितं || (2-5)
मनुष्यो यो प्रयत्नं तं करोति शीग्रमेव सः |
कारणं भुवनोन्नत्याः भवति निश्चितं इदं || (2-6)
स्वल्पं वा तद् विशेषं वा प्रश्नं तद् मुख्यं एव न |
कल्याण कार्य कर्तैति नामं तेषां भविष्यति || (2-7)

सा विद्या या विमुक्तये (1)

न सा विद्या प्रदार्थाया न सा या जीव कारिणी |
न सा सुख यशो दात्री सा विद्या या विमुक्तये || (1-1)

सर्वेभ्यैदं यथाज्ञानं भवत्येव तदापि भोः |
धनार्थं च यशार्थं च पठन्ति ज्ञान वार्त्तिकाः  || (1-2)
अहं चाप्यपराध्येव धनार्थं ज्ञान वार्त्तिकः |
परिस्थिति तदा चेत् न: पाण्यो किं आश्रयाः इमे || (1-3)
सर्वोत्तमः स यो ज्ञानं ज्ञानार्थैहैव बोधते |
स ज्ञानेन तदैवेन नन्दत्यन्येन नैव भोः || (1-4)
ज्ञान प्रदं ज्ञान लभ्यं ज्ञान वृत्यं च संग्रहं |
सुखं अपर नास्त्यत्र एभ्योस्मात् उत्तमाः इमे || (1-5)
एनानेवास्मकं लोकं चरते बाधका विना |
इमे संपूर्ण काष्ठाश्च अस्मै पर कृतास्ति न || (1-6)
इच्छा तद् परि पूर्णत्वं हेतुर्तृष्णा तया पुनः |
फलं ज्ञानात् विमुक्तिश्च जीवैषां चरन्त्यथा  || (1-7)

अध्यस्य भुवनं

धर्मस्य धर्मं रक्षितोः रक्षितं 
   अर्थस्य धर्मं रक्षितोः नाशनं 
बलस्य धर्मं समये स्व नाशनं 
   मनुष्य धर्मं रक्षितोः निवर्तं 
 
यन्त्राननेकेन मित्रारनेकाः 
     दूराः सर्वाः ममैति चिन्ता |
सत्यं इदं सर्व मनुष्याः ज्ञाताः 
     बन्धोः नैव खल्वग्राव दूराः ||
 
अनावश्य वाक्यानि वाचं किमर्थं 
     अहोत्वं मूर्खोः तदैव प्राणं |
सत्यं इदं तुल्य बन्धौ सहर्षं 
     अनावश्य संभाशणेनैव पतति ||